इस ब्लॉग पर पोस्ट की गयी तस्वीरों (Photographs) पर क्लिक कर के आप उन्हें और स्पष्ट देख सकते हैं।

Wednesday, 14 December 2011

उद्देश्य

उद्देश्य ...ये उद्देश्य भी बहुत अजीब चीज़ होती है सच मे। हर चीज़ का उद्देश्य ....हर बात का उद्देश्य होता है। जन्म से लेकर मृत्यु तक उद्देश्यों का जाल हमे उलझाए  रखता है। और हम फंसे रहते हैं.....कितनी भी कोशिश कर लें जितना उद्देश्यों से बचने की कोशिश करेंगे ....उद्देश्य हमे और घेरेंगे लिहाजा स्वभावतः यथास्थिति हर समय कायम रहती है।

जब मैं ब्लोगिंग मे आया था क्या उद्देश्य था पता नहीं । लेकिन यह 'पता नहीं' भी एक उद्देश्य ही तो था और इस 'पता नहीं' ने आज मुझे एक उद्देश्य दे दिया है ....एक मिशन दे दिया है जिस पर मुझे काम करना है और मैं कर रहा हूँ। वो बात अलग है कि मैं स्लो मूवर हूँ कितना भी तेज़ दौड़ लगाने की कोशिश कर लूँ।

कभी मैं बिलकुल नया था इस लाइन में अब  लगभग डेढ़ साल पुराना हो गया हूँ फिर भी सब कुछ पहले जैसा ही नया लगता है। अंतर भी आया...कभी मुझे तकनीक का बिलकुल ज्ञान नहीं था आज ब्लॉग और फेसबुक के अंदर घुसा हुआ हूँ ....किस ऑप्शन मे जा कर क्या करना है मुझे पता है.....कुछ लोग सलाह भी मांगते हैं और मैं आत्म संतुष्टि की कीमत पर अपनी सलाह दे भी देता हूँ....कभी कभी 'ओवर कोन्फ़िडेंस' मे  बिन मांगी भी।

देखा टोपिक से हट गया न मैं.....बात उद्देश्य की हो रही थी और पहुँच गया कहाँ से कहाँ । तो लाख टके का उद्देश्य दे दिया है 'नयी-पुरानी हलचल' ने कि चाहे जो हो अपने जैसे नए लोगों(ब्लोगर्स) को खोजना है और उन्हें हाइप देना है .....मुझे अच्छा लगता है जब फेसबुक और हलचल पर मेरे पसंद के लिंक्स पर कमेंट्स पहुँचते हैं ....आखिर उनके ब्लोगस को लोग जानते तो हैं ....ये तो रहता है कि हाँ फलां भी ब्लॉग लिखता/ लिखती हैं। मेरा क्या जाता है।

मैं जानता हूँ स्वार्थी लोग इस उद्देश्य मे मेरा स्वार्थ ढूढ़ेंगे तो मैं खुद को स्वार्थी स्वीकार करते हुए कहना चाहता हूँ कि मेरा वही स्वार्थ है जो मेरा उद्देश्य है।
सर्च ऑपरेशन जारी है :)

11 comments:

  1. उद्देश्य तो नेक लगता है चलते चलो....शुभकामनाएं..

    ReplyDelete
  2. आपका यहाँ आने का उद्देश्य पूरा हुआ हो या न हुआ हो , आपकी सहायता से मेरा सिखने का उद्देश्य पूरा हो रहा है , थोड़ी लालची हूँ.... ?? :) हर चीज का कोई न कोई उद्देश्य होता ही है.... |

    ReplyDelete
  3. बहुत खूब यशवंत जी!
    पावन उद्देश्य को नमन हमारा... अगर यह स्वार्थ है तो प्रार्थना है कि ईश्वर हम सभी को ऐसी पावन स्वार्थपरता का अनुगामी बनाये!

    ReplyDelete
  4. बेहतरीन सार्थक उद्देश्य....

    ReplyDelete
  5. नेक काम कर रही हैं ............

    ReplyDelete
  6. इस पर सोचोगे तो उद्देश्य से भटक जाओगे

    ReplyDelete
  7. बहूत हि नेक उद्देश्य है
    keep it up:-)

    ReplyDelete
  8. बहुत ही सार्थक सोच है आपकी .................

    ReplyDelete
  9. अगर ये स्वार्थ है ,तो सब को स्वार्थी बन जाना चाहिए ...... शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  10. jeevan me uddeshya ki aham bhumika hoti hai ,jo aage badhne me sahayak hai ,sundar

    ReplyDelete

कृपया किसी प्रकार का विज्ञापन कमेन्ट मे न दें।
कमेन्ट मोडरेशन सक्षम है। अतः आपकी टिप्पणी यहाँ दिखने मे थोड़ा समय लग सकता है।

Please do not advertise in comment box.
Comment Moderation is active.so it may take some time for appearing your comment here.