इस ब्लॉग पर पोस्ट की गयी तस्वीरों (Photographs) पर क्लिक कर के आप उन्हें और स्पष्ट देख सकते हैं।

Thursday, 29 December 2011

सोच रहा हूँ
आने वाले साल
मैं मैं न रहूँ
कुछ और हो जाऊँ
अपने ही भीतर
एक ठौर पा जाऊं
और मुक्त हो जाऊं
खुद को खुद पर
लादे रहने के
भार से !

4 comments:

  1. bahut hi acchi soch hai ...khud ko khud par lade rahne ke bhar se mukti ..so nice

    ReplyDelete
  2. मैं .... निरंतर बदलता है

    ReplyDelete
  3. बहुत खूब ... नया अंदाज़ है सोच को नयी दिशा दी है ...
    नए साल की बहुत बहुत मुबारकबाद ...

    ReplyDelete
  4. मैं मैं न रहूँ
    कुछ और हो जाऊँ
    अपने ही भीतर
    एक ठौर पा जाऊं
    और मुक्त हो जाऊं....bahut hi umda kaha aap ne....bdhai...

    ReplyDelete

कृपया किसी प्रकार का विज्ञापन कमेन्ट मे न दें।
कमेन्ट मोडरेशन सक्षम है। अतः आपकी टिप्पणी यहाँ दिखने मे थोड़ा समय लग सकता है।

Please do not advertise in comment box.
Comment Moderation is active.so it may take some time for appearing your comment here.